प्रसार भारती के मुफ्त डायरेक्ट-टू-होम
(डीटीएच) प्लेटफॉर्म फ्रीडिश को 12वीं
पंचवर्षीय योजना के तहत 250 चैनलों तक अपनी
क्षमता
बढ़ाने के लिए जीसैट-15 पर अतिरिक्त ट्रांसपोंडर
क्षमता
मिलेगी। यह जानकारी वित्त, कॉरपोरेट मामलों और
सूचना व
प्रसारण मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा में दी।
इस समय फ्रीडिश पर टीवी चैनलों के लिए 64 स्लॉट
हैं। अब यह एमपीईजी4 सेट-टॉप बॉक्स
(एसटीबी) देकर 112 चैनलों तक अपनी क्षमता का
विस्तार करने की योजना बना रहा है।
जेटली ने कहा कि डीटीएच प्लेटफॉर्म पर 112
टीवी चैनलों के लिए हार्डवेयर लगाए जाने का काम
पूरा हो चुका
है। यह क्षमता भविष्य में 12वीं पंचवर्षीय योजना
के हिस्से
के रूप में, 250 चैनलों तक बढ़ा दी जाएगी।
उन्होंने यह भी कहा कि प्रसार भारती को कंडीशनल
एक्सेस सिस्टम (कैस) लागू करने में कई समस्याओं
का सामना करना पड़ा था जो
अपग्रेड की गई प्रणाली का हिस्सा है।
प्रसार भारती ने इलेक्ट्रॉनिक्स व सूचना
प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा
अंतिम रूप दिए जा रहे भारतीय कैस को अपनाने का
फैसला किया है।
उन्होंने बताया कि इसके अलावा, अंतरिक्ष विभाग
(डीओएस) सैद्धांतिक रूप
से सहमत हो गया है कि वह 250 टीवी चैनलों के
लिए
आवश्यक अपग्रेड के लिए नए जीसैट15 सैटेलाइट
पर अतिरिक्त
ट्रांसपोंडर देगा।
11 नवंबर को लॉन्च किए गए जीसैट15, 24 केयू-
बैंड में कम्युनिकेशन
ट्रांसपोंडर कैरी करता है। साथ ही इसके पास एल1
और एल5
बैंड में सक्रिय जीपीएस एडेड जियो ऑगमेंटेड
नेवीगेशन (गगन) पेलोड भी है।
इससे पहले, दूरदर्शन डीडीजी (कमर्शियल और
बिक्री/आईआर व आईएमडी/
डीसीडी) सीके जैन ने टेलिविज़न पोस्ट को
बताया कि फ्रीडिश जीसैट15 सैटेलाइट पर माइग्रेट
करेगा क्योंकि
इनसैट4बी को खत्म किया जा रहा है।
जीसैट15, इनसैट-3ए और 4बी की जगह लेगा जो
93.5° ई पर सह स्थित है। यह डीटीएच ऑपरेटरों,
टीवी न्यूज़ चैनलों के लिए डिजिटल सैटेलाइट न्यूज़
इकट्ठा करने
वालों और ब्रॉडबैंड सेवाएं देने वाले वीसैट ऑपरेटरों
की ज़रुरतों को
पूरा करेगा।
वर्तमान में, फ्रीडिश 93.5° ई पर इनसैट-4 बी पर
केयू-बैंड
में उपलब्ध है। इसके पास एमपीईजी-2
डीवीबी-एस और 4 स्ट्रीम के चैनल हैं
जिनकी डाउनलिंग फ्रिक्वेंसी 10990, 11070,
11150 और
11570 मेगाहर्ट्ज है।
एक और बातचीत में, जैन ने बताया था कि फ्रीडिश
अप्रैल
2016 से एमपीईजी-4 एसटीबी लेकर
आएगा।
एमपीईजी-2 एसटीबी के
विपरीत एमपीईजी-4 एसटीबी
को केवल अधिकृत डीलरों से प्राप्त किया जा सकता
है।
एमपीईजी4 एसटीबी 1,000 रुपए और
उससे ज़्यादा कीमत में उपलब्ध होगा।
जैन ने कहा कि डीटीएच ऑपरेटर गैर हिंदी
क्षेत्रीय चैनलों के लिए कुछ खास स्लॉट आरक्षित
करके गैर-
हिन्दी बाज़ारों का दोहन करने की योजना बना रहा है।
2 करोड़ से अधिक ग्राहकों के साथ, फ्रीडिश भारत
में अब तक का सबसे
बड़ा डीटीएच प्लेटफॉर्म है।
ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बीएआरसी)
द्वारा
ग्रामीण सहित अखिल भारतीय रेटिंग्स के जारी करने
से यह प्लेटफॉर्म दर्शकों तक पहुंचना चाहने वाले
टीवी चैनलों
के लिए और भी अधिक महत्वपूर्ण हो गया है।
बढ़ती मांग को देखते हुए डीटीएच प्लेटफॉर्म ने
स्लॉट की ई-नीलामी के लिए अपना आरक्षित मूल्य
3.7 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 4.3 करोड़ रुपए कर
दिया

3 thoughts on “DD Freedish will soon get increes thair nomber of channels up to 250

Leave a Reply